Koi Mere Liye Tujhsa Nhi Tha

Koi Mere Liye Tujhsa Nahi Tha
Sitam Ye Hai Tu Hi Apna Nahi Tha

Bagair Uske Mujhe Jeena Padega
Kabhi Meine To Ye Socha Nahi Tha

Meri Aankho Ka Dhoka Tha Yaqeenan
Kabhi Bhi Ishq Ye Sachha Nahi Tha

Ye Raaste Har Qadam The Saath Mere
Mein Tanha Ho Ke Bhi Tanha Nahi Tha

Zamane Ke Liye Hoga Wo Mohsin
Mere Haq Mein Kabhi Acha Nahi Tha

Muqaddar Ban Gaya Zamreen Wo Hi
Jise Meine Kabhi Chaha Nahi Tha

कोई मेरे लिए तुझसा नहीं था
सितम ये है तू ही अपना नहीं था

बगैर उसके मुझे जीना पड़ेगा
कभी मैंने तो यह सोचा नहीं था

मेरी आँखों का धोका था यक़ीनन
कभी भी इश्क़ ये सच्चा नहीं था

ये रास्ते हर क़दम थे साथ मेरे
मैं तन्हा होके भी तन्हा नहीं था

ज़माने के लिए होगा वो मोहसिन
मेरे हक़ में कभी अच्छा नहीं था

मुकद्दर बन गया ज़मरीन वो ही
जिसे मैंने कभी चाहा नहीं था

ज़मरीन बदायूनी

 

Leave a comment: